बिखरे मोती

This blog is for Hindi stories and topics of general interests

39 Posts

28 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23100 postid : 1196320

यूपी में मुख्य राजनीतिक दल: एक अवलोकन (भाग-3)

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रदेश में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी हैI इस पार्टी ने पिछले संसदीय चुनावों में 72 सीटें जीत कर प्रदेश में अपनी मजबूत स्थिति का लोगों को अहसास कराया था लेकिन विधान सभाओं के चुनाव राज्य की समस्याओं पर लड़े जाते है और संसदीय चुनाव राष्ट्रीय मुद्दों पर इसलिए यह कह देना कि बीजेपी विधान सभा में भी अगले वर्ष  पिछले संसदीय चुनाव की तरह प्रदेश में जीत हासिल करेगी तर्क संगत नहीं होगाI

सपा और बसपा के विपरीत इस पार्टी के पास कोई भी ऐसा स्थानीय चेहरा नहीं है जिसके दम पर पार्टी अगले वर्ष होने वाले विधान सभा के चुनावों में जीत हासिल करने का दम भर सकेI पार्टी के पास जो कुछ चेहरे हैं भी तो शायद पार्टी को उन पर ज्यादा  भरोसा नहीं है जिसका एक मुख्य कारण शायद इन सब का  अपनी जबान पर नियंत्रण न होना और आम जनता से जुड़ाव की कमी हैI ये कब और कहाँ पर क्या बोलेंगे शायद पार्टी को भी नहीं पता होता है और बाद में पार्टी को इनके बयानों पर सफाई देनी पड़ती हैI शायद ऐसे ही कारणों से कुछ दिन पहले राजनाथ सिंह जो प्रदेश की राजनीति को लगभग छोड़ चुके थे को फिर  से उत्तर प्रदेश में पार्टी का चेहरा  बनाये जाने की अफवाहें काफी गर्म थीI सोशल मीडिया साईट पर कुछ अन्य चेहरों को लेकर भी अफवाहों का बाज़ार गर्म है जिस पर पार्टी की तरफ से अभी तक कोई सफाई जनता के  सामने  नहीं  दी गयी हैI यदि स्थानीय चेहरे को चुनाव  की कमान नहीं सौंपी गयी तो हो सकता है पार्टी को अंदरूनी कलह  का सामना करना पड़े जो पार्टी के लिए घातक सिद्ध होगाI

ग्रामीण क्षेत्रों में पार्टी की छवि में कोई ज्यादा सुधार हुआ हो ऐसा कुछ विदित नहीं हो पा रहा हैI पार्टी के दिग्गज नेताओं में मुख्य रूप से शहरों के निवासी ही है या इक्का दुक्का कोई ग्रामीण परिवेश का नेता है भी तो वो भी शहर ही तक सीमित हो कर रह गया हैI ग्रामीण क्षेत्रों में पार्टी को विस्तार देने के बारे पार्टी की रणनीति या इस बारे में सोच स्पष्ट नहीं हैI

यह पार्टी केवल एक हिन्दू पार्टी ही बनकर रह गयी हैI इस पार्टी की पूरी रणनीति वोटों के धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण के इर्दगिर्द ही केन्द्रित रहती हैI पार्टी के छोटे स्तर ( पार्टी के पदानुसार ) के नेता ऐसे बयान देने से बिल्कुल परहेज नहीं करते है जिस के चलते समाज के कुछ धार्मिक समुदाय पार्टी से दूरी  बना लेते हैI पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को कभी भी ऐसे नेताओं पर लगाम कसते हुए नहीं देखा गया है जिससे आम जनता में यह स्पष्ट सन्देश जाता है कि इन नेताओं को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की शै रहती हैI ऐसा नहीं है कि ऐसे बयानों के चलते पार्टी को हमेशा नुकसान ही हुआ हो कई बार इस के चलते पार्टी को फायदा भी मिला हैI

जब पिछले संसदीय चुनावों में पार्टी ने विकास के मुद्दे को लेकर चुनाव लड़ा तो ऐसा लगने लगा था कि पार्टी अपनी हिन्दू पार्टी वाली छवि से छुटकारा पाना चाहती है लेकिन ऐसा ज्यादा दिन तक नहीं चलाI इसके दो मुख्य कारण हो सकते है पहला पार्टी को दिल्ली और बिहार के चुनावों में मिली भारी हार तथा दूसरा पार्टी को अपने विकास के मुद्दे पर स्वयं पर विश्वास की कमीI कारण  कुछ भी हो उत्तर प्रदेश में पार्टी की हाल की गतिविधियों से ऐसा आभास होने लगा है कि पार्टी प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले चुनावों में जहां-जहां संभव होगा वहां-वहां धार्मिक आधार पर वोटों के ध्रुवीकरण की रणनीति को ही अपनाएगीI

पार्टी की केंद्र सरकार आम जनता को अपनी विकास की योजनाओं पर बहुत अधिक विश्वास दिलाने में सफल  होती नज़र नहीं आ रही हैI इसका मुख्य कारण है कि जो योजनाएं सरकार द्वारा निर्धारित की गयी है उनका फायदा आम जनता विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों और शहरों की गरीब जनता को मिलता नज़र नहीं आ रहा है इस लिए इस वर्ग की जनता बीजेपी को राज्य में केंद्र सरकार के विकास के मुद्दे पर वोट करेगी इसमें संशय हैI यूँ तो बीजेपी की केंद्र सरकार अपने विकास के मुद्दे को लेकर जनता के बीच काफी आशा जगाने का प्रयास कर  रही है लेकिन कहीं न कहीं वह भी अपने इन मुद्दों को लेकर बहुत ज्यादा आशावान नज़र नहीं आ रही है, जिसका पता इस बात से ही चल जाता है कि अपने विकास के कार्यक्रमों को लेकर केंद्र सरकार को स्वयं ढोल बजाना पड़ रहा है जबकि होना इसका उलटा चाहिए थाI यदि दो  वर्षों में विकास आम जनता तक पहुंचा होता तो जनता ही उसका गुणगान करतीI दूसरी और विकास के कुछ ऐसे मुद्दे है जिनसे केवल देश का उच्च आय वर्ग या कुछ मध्यम आय वर्ग ही लाभान्वित होगा जैसे बुलेट ट्रेन, स्मार्ट सिटी  इत्यादिI आम जनता के लिए सबसे पहले रोटी कपड़ा मकान और बच्चों की पढ़ाई का है और यदि उसे इन मदों में कुछ रहत मिलती नज़र नहीं आएगी तो यह तय है कि वो विकास के इन मुद्दों के नाम पर बीजेपी को वोट देने में बिल्कुल उत्साह नहीं दिखाएगीI

बढ़ती महंगाई का मुद्दा भी पार्टी के लिए प्रदेश के चुनावों में एक बड़ा सर दर्द बन कर उभरेगा हैI यह एक ऐसा  मुद्दा है जिसका ठीकरा बीजेपी की केंद्र सरकार कांग्रेस की पूर्व सरकारों या अन्य दलों के राज्य सरकारों पर फोड़ कर अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकतीI पिछले दिनों जिस तरह से खाने पीने के दामों  में बढ़ोतरी हुई है उसे देख कर लगता है कि समय रहते महंगाई पर नियंत्रण रखने के लिए केंद्र सरकार ने उचित कदम नहीं उठाए और यदि उठाएं भी है तो वे नाकाफी थेI



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
June 30, 2016

जय श्री राम अरुणजी आपके लेख के लिए धन्यवाद्.उत्तर प्रदेश में जाति अगले पिछड़े और मुस्लिम के नाम पर वोट मांग कर समाज का बटवारा कर लेते बिहार में क्या हुआ इतने सालो तक गुंडागर्दी लूत्माल करने वाले लालू जो सजा आफता है चुनाव में सबसे बड़ा दल बन जाता ये लिक्तंत्र पर कलंक हो पिछले ७० सालो से मुसलमानों को बीजेपी आरएसएस के नाम पर डरा कर वोट लेने वाले डालो के साथ हिन्दू कार्ड खेलना बहुत ज़रूरी है किसानो के लिए नई योजना आई ७० साल की गन्दगी को २ साल में दूर करना मुस्किल है लेकिन बहुत काम हो रहा यदि शहर विकसित होंगे गावो की स्थित टीक होगी बीजेपी जैसे मौर्या को अध्यक्ष बनाया ऐसे ही कोइ चेहरा लायेगी योगी आदित्यनाथ बहुत अच्छे होंगे.

arungupta के द्वारा
June 30, 2016

रमेश जी  सत्तर वर्ष  की  गन्दगी  में  पांच  वर्ष  की गन्दगी बीजेपी की स्वयं  की  भी है I आपका  यह कथन सत्य से एकदम परे  है कि यदि  शहर  विकसित  होंगे  तो  गावों की स्थिति  भी अच्छी  होगीI शहर  गाँव  के  बलबूते पर  विकसित  होते  है  न कि गाँव शहरों  के  बलबूते परI पार्टी के लिए कौन चेहरा अच्छा होगा कौन  नहीं इसका निर्णय पार्टी को  करना  हैI


topic of the week



latest from jagran